बिहार में फिर हुआ हावड़ा जलपाईगुड़ी वंदे भारत ट्रेन पर पथराव

बिहार में फिर हुआ हावड़ा जलपाईगुड़ी वंदे भारत ट्रेन पर पथराव
नव-बिहार समाचार। हावड़ा जलपाईगुड़ी के बीच चालू की गई अति महत्वपूर्ण ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस पर फिर से एक बार पथराव की सूचना सामने आई है। ट्रेन के शुरू होने के बाद यह चौथी घटना है, जब ट्रेन पर पत्थर फेंके गए। बताया गया कि बंगाल के दालकोला से बिहार के तेलता स्टेशन के बीच KM.118-122 की बीच पथराव की घटना रिपोर्ट किया गया है।

टूटे खिड़कियों के शीशे
 पथराव से बोगी संख्या C-6(NO.P 6227667) खिड़की के शीशा टूट गया है, फिलहाल कटिहार के बलरामपुर थाना क्षेत्र से जुड़े इस घटना में पुलिस जांच में जुटी हुई है। बताते चल इससे पहले भी बिहार के किशनगंज में और बंगाल के कुछ इलाके में वंदे भारत ट्रेन पर पथराव हो चुका है।

तीन बार पहले भी हुई घटना
वंदे भारत एक्सप्रेस की लॉन्चिंग के बाद यह चौथी बार है, जब वंदे भारत एक्सप्रेस पर पथराव किया गया। इससे पहले भी पश्चिम बंगाल के उत्तरी क्षेत्र में बाहर से पत्थर फेंके जाने के कारण हावड़ा-न्यू जलपाईगुड़ी वंदे भारत एक्सप्रेस के दो डिब्बों की खिड़कियों के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए थे। न्यू जलपाईगुड़ी से डाउन वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन में इसी तरह की घटना का सामना करना पड़ा, जब पथराव के कारण एक कोच के दरवाजे पर लगे कांच में दरार आ गयी। वहीं तीसरी बार पथराव 8 जनवरी को हुआ था। यह घटना तब हुई जब सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन बिहार के कटिहार में बारसोई जंक्शन को पार कर पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में प्रवेश कर रही थी। उन्होंने आगे खुलासा किया कि ट्रेन के सी-11 डिब्बे में पथराव किया गया, जिससे यात्रियों में अफरातफरी मच गई थी।

बंगाल सरकार ने बिहार पर लगाए थे आरोप
भारत की सबसे तेज रफ्तार ट्रेन पर लगातार हो रहे हमले को लेकर प. बंगाल सरकार पर सवाल उठे थे। आरोप था कि ममता बनर्जी के कार्यकर्ताओं द्वारा ट्रेन पर पत्थर फेंके जा रहे हैं। हालांकि बाद में यह बात सामने आई कि पत्थर फेंकने की घटना बंगाल नहीं, बल्कि बिहार के किशनगंज में हुई थी। जिसमें तीन नाबालिक किशोरो को हिरासत में लिया गया था।