ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** आपके लगातार सहयोग से पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 9 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। ताजा समाचार *** नवगछिया- गोसाईंगांव के पास नदी में डूबने से एक की मौत, लाश नहीं हुई बरामद, सिंघिया मकंदपुर निवासी अरुण साह का पुत्र राहुल कुमार के नाम की है चर्चा *** ***

सोमवार, 3 जुलाई 2017

खास खबर: बिहार में मोती की खेती


बेगूसराय। बिहार में जहाँ ज्यादातर मक्का और गेहूं की खेती होती है कभी कभार गांजे या अफीम की खेती सुनी जाती है। वहीं मोती की खेती
सुनकर असंभव सा लगता है, लेकिन यह सच है. यहां के किसान अब मोती पैदा कर रहे हैं. इससे फायदा भी खूब है. सही से इसकी खेती की जाए तो लाखों कमाया जा सकता है. बेगूसराय के किसान जयशंकर ने सीप पालन या यों कहिए कि मोती की खेती कर एक मिसाल कायम की है. जयशंकर अब एक रोल मॉडल बन चुके हैं. उनके लिए जो पारम्परिक खेती को कोसते रहते हैं. अब वक्त बदल चुका है. कुछ नया करने का टाइम है. जयशंकर जैसे किसानों से सीख लेने की जरूरत है.
जयशंकर को कृषि के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए कई इनामों से नवाजा गया. लोग जयशंकर की प्रतिभा का लोहा मान चुके हैं. मोती की खेती जमीन पर नहीं बल्कि पानी के भीतर की जाती है. इसकी खेती के लिए किसान जयशंकर ने स्वयं एक छोटे से तालाब का निर्माण किया, जिसमें सीप पालन के जरिए हजारों की संख्या में मोती तैयार किए जा रहे हैं. आज जयशंकर के पास तालाब से निकाले गए कई दुर्लभ मोती हैं.
तालाब में मोतियों का उत्पादन कर जयशंकर नाम के साथ-साथ अच्छा मुनाफा भी कमा रहे हैं. सीप के जरिए मोती का उत्पादन करने के कारण अब आस-पास के लोग जयशंकर को सीप का डॉक्टर भी कहने लगे हैं. उन्‍होंने प्रदेश के लिए कृषि में नए रास्ते खोल दिए हैं, जिससे पारंपरिक खेती के साथ ही गैर-पारंपरिक खेती के जरिए मुनाफा कमाने का रास्ता साफ हो गया है.
मोती उत्पादन पर बात करते हुए जयशंकर बताते हैं कि इसकी शुरुआत के दौरान लोगों ने काफी मजाक बनाया और उन्हें पागल तक कहा, क्योंकि घोंघा सितुआ को हमारे समाज में काफी उपेक्षा से देखा जाता है. एक कहावत प्रचलित है कि सीप के मुंह में स्वाति नक्षत्र की बूंदें जाती हैं, तो मोती बन जाता है. ये पर्ल फार्मिंग उसी क्रिया पर आधारित है. बिहार के पानी में मोती उत्पादन की काफी संभावनाएं हैं, लेकिन सरकार को भी इसकी ओर ध्यान देना होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।