धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शुक्रवार, 11 अगस्त 2017

ट्रेजरी घोटाला : भागलपुर डीएम का पीए प्रेम कुमार गिरफ्तार

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क, भागलपुर (NNN) : सृजन द्वारा भागलपुर में किये गये महाघोटाले की एक बड़ी कड़ी जांच टीम को हाथ लगी है. 300 करोड़ से बढ़ कर 500 करोड़ तक पहुंचा ट्रेजरी घोटाला मामले में इसे बड़ी कार्रवाई समझी जा रही है. जिसके तहत भागलपुर डीएम के पीए प्रेम कुमार को गिरफ्तार किया गया है. यह कार्रवाई इस घोटाले की जांच कर रहे SIT ने की है. अभी SIT की टीम डीएम के पीए प्रेम कुमार के घर छापेमारी कर रही रही है. 

बता दें कि भागलपुर में हुए ट्रेजरी घोटाले को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सख्त तेवर के बाद इस पूरे मामले की जांच तेज हो गई है. मामले की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई के सूत्रों का दावा है कि जल्द ही पूरे राज्य में घोटाले के तार फैले मिलेंगे. कुल आंकड़ा हजार करोड़ पार कर जाए तो हैरत नहीं. यानी, चारा घोटाले का रिकार्ड टूटने जा रहा है. सृजन के सृजन से लेकर घोटाले के सृजन तक की पूरी कहानी बड़े लोगों की मिलीभगत से किए गए बड़े खेल की ओर इशारा कर रही है.

बता दें कि सृजन घोटाला मामले में एसआईटी को अहम जानकारी हाथ लगी है. जांच के दौरान पता चला कि सरकारी योजनाओं के बैंक खाते से संबंधित शाखा में नहीं, बल्कि भीखनपुर त्रिमूर्ति चौक स्थित एक प्रिंटिंग प्रेस में फर्जी अपडेट होता था, ताकि खाते में सरकारी राशि जस की तस दिखे, जबकि हकीकत में इन सरकारी खातों से पैसे निकाल कर सृजन के खातों में भेज दिया जाता था, जहां उसका अलग-अलग मदों उपयोग होता था. जिला प्रशासन के अधिकारी, बैंक और सृजन की मिली-भगत से सरकारी राशि की उपयोग का गोरखधंधा चल रहा था.

जांच में जुटी आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) के सूत्रों का कहना है कि सृजन घोटाले का दायरा सिर्फ भागलपुर तक केन्द्रित नहीं है. इसमें अब सहरसा का भी नाम जुड़ गया है. सहरसा के जिला भू-अर्जन कार्यालय और सृजन के बीच 150 करोड़ रुपए के ट्रांजेक्शन के दस्तावेज बुधवार की रात ही हाथ लगे हैं. इसके अलावा भागलपुर के को-ऑपरेटिव बैंक का 48 करोड़ रुपया भी सृजन में जमा होने की बात सामने आई है. अधिकारियों के अनुसार दोनों मामलों में दो अलग-अलग एफआईआर दर्ज की गई है.

बुधवार को दिन में करीब सवा दो बजे जांच टीम भागलपुर पहुंची. रात करीब दो बजे तक जांच चलती रही. इस दौरान जो खुलासे हुए उससे साफ हो गया कि घोटाले के तार बिहार के अन्य जिलों से भी जुड़े हैं. इसमें बैंक, प्रशासनिक अफसर, विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता, बिजनेसमैन और कई निजी कंपनियां शामिल हैं.


1 टिप्पणी:

बाल्मीकिमण्डल ने कहा…

इतना बड़ा घोटाला मामले को जेडीयू नेता प्रवक्ता वित्तीय गड़बड़ी बता रहे हैं इस मामले को लीपापोती होना तय है इसमें भाजपा के लोग है बच्चों का पौशाक राशि साइकिल की राशि सब पैसा का सही समय नहीं दिया जाता ये सब लोग अपने कामों में लगाता था इसकी सीबीआई जांच कर दूध का दूध हो चाहिए

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।