धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

रविवार, 13 अगस्त 2017

सृजन महाघोटाला: हर्षद मेहता टाइप का निकला मामला, बढ़ता ही जा रहा फर्जीवाड़ा- डीएम

फर्जी हस्ताक्षर से हुआ पैसे का लेन-देन, नियम भी ताक पर
नव-बिहार न्यूज नेटवर्क, भागलपुर (NNN): बैंक ऑफ बड़ौदा व इंडियन बैंक से सृजन महिला विकास सहयोग समिति के खाता में सरकारी फंड के ट्रांसफर की राशि
लगातार बढ़ रही है. विभिन्न विभाग के पैसे को बाहर (रियल एस्टेट व अन्य में) लगाया गया है. यह जांच आर्थिक अपराध इकाई भी कर रही है. यह कांड वर्ष 1992 में हर्षद मेहता घोटाले की याद दिला रहा है. जिसमें बैंकिंग नियम को धता बता कर बड़ी राशि शेयर बाजार में लगायी गयी थी. ये बातें जिलाधिकारी भागलपुर आदेश तितरमारे ने शनिवार को पत्रकार वार्ता में कही.

उन्होंने कहा कि सरकारी बैंक व को-ऑपरेटिव बैंक के गठजोड़ में बड़ा रैकेट काम कर रहा था. इस कारण बड़ी सफाई से किये गये काम महालेखाकार की प्रत्येक वर्ष के ऑडिट में भी सामने नहीं आया. यह रैकेट सरकारी राशि को सृजन के खाते में जमा कराता और वहां से राशि नगद रूप में निकाल ली जाती थी. जब सरकारी राशि की निकासी का चेक जाता तो सरकारी खाता में उतनी राशि डाल दी जाती. रैकेट के सदस्य समय-समय पर फर्जी खाता विवरणी भेजते थे. 
नजारत में पैसा कम होने की मिली थी सूचना :
डीएम ने कहा कि बैंक द्वारा फर्जीवाड़ा करने की पहली शिकायत उन्हें पिछले वर्ष जुलाई-अगस्त में मिली थी. उस समय यह बताया गया कि नजारत के खाता में पैसा कम है. सूचना पर तत्काल नजारत शाखा से खाता विवरणी मंगायी गयी. 29 अगस्त 2016 को तीन करोड़ व एक करोड़ रुपये नजारत खाता से फर्जी हस्ताक्षर करके निकाले गये. फिर सितंबर में डेढ़ करोड़ रुपये निकाले गये. इधर, जब चेक बाउंस हुआ तो उन्होंने फौरन मामले की जांच करायी और नजारत में सवा 10 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा सामने आया. 
गोपनीयता लीक पर होगी कार्रवाई :
डीएम के अनुसार, बैंक ऑफ बड़ौदा व इंडियन बैंक से हुए फर्जीवाड़े में सरकारी कर्मियों की मिलीभगत होने से इनकार नहीं किया जा सकता है. गोपनीयता तो लीक हुई है. उन्होंने इसके लिए अंदरूनी तौर पर विभागीय जांच शुरू कर दी है. इसमें जांच पदाधिकारी भी नामित हो गये हैं. यह पता लगाया जा रहा है कि चेक के काटने से लेकर कई अहम बातें बाहर कैसे लीक हुई. चार दिनों में संभवत: जांच का काम हो जायेगा. जो दोषी होगा, उस पर कार्रवाई होगी. 
आयेगी फोरेंसिंक ऑडिटिंग की टीम :
डीएम के अनुसार, जब सभी सरकारी विभागों से रिपोर्ट आ जायेगी. तब सरकार की फोरेंसिंक ऑडिटिंग की टीम को बुलाया जायेगा. यह टीम विभागीय राशि और ब्याज का आकलन करेगी. इस तरह पता लग सकेगा कि सरकार को कितना ब्याज का नुकसान हुआ. आकलन के बाद राशि सहित ब्याज की मांग संबंधित बैंक से की जायेगी. इसके लिए आरबीआइ को पत्र लिखेंगे. 
इओयू को कर रहे हैं सहयोग
डीएम ने बताया कि इओयू के सदस्य आये हुए थे. उन्होंने नोडल अफसर बनाने के लिए कहा, ताकि प्रशासन से किसी भी कागजात के लिए विभागीय दौड़ नहीं लगानी पड़े. इसको लेकर नोडल अफसर वरीय उप समाहर्ता इबरार आलम को बना दिया है. उन्हीं के माध्यम से जो भी साक्ष्य आगे सामने आयेगा, टीम को देंगे. आज(शनिवार) खाता विवरणी और कैशबुक की कॉपी आयी है. इसमें पता चला है कि वर्ष 2008 तक ब्लॉक सबौर का खाता सृजन को-ऑपरेटिव बैंक में था. 31 मार्च 2008 को खाता बंद कर दिया गया था. इसके अलावा एक पत्र की तलाश हो रही है, जिसमें सरकार ने ऐसा करने का निर्देश जारी किया था. 
स्कैम खोला है, छुपाया नहीं :
डीएम ने कहा कि सृजन घोटाला का खुलासा किया है, इसको छुपाया तो नहीं. गोपनीय सूचना मिलने पर पीछे लगे और आज बड़े पैमाने पर सरकारी फंड का अवैध खेल उजागर हुआ. यह तो समझिए कि 10 साल से खेल चल रहा था, जो किसी की समझ में नहीं आया. एक संगठित रैकेट के तले धंधा चला, जिसकी भनक तक नहीं लगी.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।