धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 24 अक्तूबर 2016

सम्प्रदाय के आधार पर महिलाओं से नहीं होने देंगे भेदभाव- प्रधानमंत्री

तीन तलाक पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दो टूक। कहा  सम्प्रदाय के आधार पर महिलाओं से भेदभाव नहीं होने देंगे।
=======================
24 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने
अपने यूपी दौरे के दौरान बुन्देलखंड के महोबा में तीन तलाक के मुद्दे पर साफ-साफ कहा कि सम्प्रदाय के आधार पर किसी भी महिला के साथ भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा। मोदी ने यह बात तब कही हैं जब मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सहित अधिकांश मुस्लिम संगठन इस मुद्दे पर केन्द्र सरकार की आलोचना कर रहे है। बोर्ड तो देशभर में मुस्लिम महिलाओं से फार्म भरवाकर तीन तलाक पर सहमति करवा रहा  है। उम्मीद तो यहीं थी कि मुस्लिम संगठनों ने जो दबाव बनाया है उसे देखते हुए केन्द्र सरकार तीन तलाक के मुद्दे पर पीछे हट जाएगी। लेकिन 23 अक्टूबर को जिस दृढ़ता के साथ सरकार ने अपनी भावना को प्रकट किया, उससे लगता है कि तीन तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम महिलाओं को राहत मिलेगी। पीएम ने दो टूक शब्दों में कहा कि मुस्लिम मां-बहिनों को भी समानता का अधिकार मिलना चाहिए और इसमें सरकार मुस्लिम महिलाओं के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि तीन तलाक को हिन्दु और मुसलमान से न जोड़ा जाए। यह हमारी मां बहनों के सम्मान का मुद्दा है। कुछ लोग अपने स्वार्थो की वजह से इस मुद्दे पर भ्रम फैला रहे हंै। जबकि सरकार का मकसद महिलाओं को समानता का अधिकार दिलवाना है।
उन्होंने कहा कि मैं मीडिया से अनुरोध करना चाहता हूं कि तीन तलाक को लेकर जारी विवाद को मेहरबानी करके सरकार और विपक्ष का मुद्दा ना बनाएं। भाजपा और अन्य दलों का मुद्दा ना बनाएं, हिन्दू और मुसलमान का मुददा ना बनाएं। जो कुरान को जानते हैं, वे टीवी पर आकर चर्चा करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि मुसलमानों में भी लोग सुधार चाहते हैं। जो सुधार नहीं चाहते हैं, उनकी चर्चा हो। सरकार ने अपनी बात रख दी है। कोई गर्भ में बच्ची की हत्या कर दे तो उसे सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। वैसे ही तीन तलाक कहकर औरतों की जिन्दगी बर्बाद करने वालों को यूं ही नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। 
पीएम मोदी ने जिस दृढ़ता से अपनी बात को रखा है उससे यह भी प्रतीत होता है कि अब सुप्रीम कोर्ट में सरकार और प्रभावी तरीके से इस मुद्दे को प्रस्तुत करेगी। तीन तलाक की प्रथा पर रोक लगाने के लिए मुस्लिम महिलाओं ने ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। इसी पर केन्द्र सरकार ने भी ऐसी प्रथा पर रोक लगाने पर सहमति दी है। देश की आजादी के बाद यह पहला अवसर है जब केन्द्र सरकार ने सभी धर्मो की महिलाओं को समान अधिकार देने की पैरवी की है। माना जा रहा है कि सरकार का यह फैसला दूरगामी साबित हो। अब देखना है कि पीएम के बयान पर मुस्लिम संगठन क्या प्रतिक्रिया देते है।

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।