ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** आपके लगातार सहयोग से पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 9 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। ताजा समाचार *** नवगछिया- गोसाईंगांव के पास नदी में डूबने से एक की मौत, लाश नहीं हुई बरामद, सिंघिया मकंदपुर निवासी अरुण साह का पुत्र राहुल कुमार के नाम की है चर्चा *** ***

रविवार, 9 जुलाई 2017

लालू प्रसाद: कभी कहा था मैं हेमा मालिनी का ऐसी हूँ


पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के कुछ खास और चुटीले व मारक बयान हैं, जो सीधे असर करते हैं। सीबीआइ रेड के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान
शुक्रवार को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह के खिलाफ उनकी तल्‍खी साफ नजर आई। सीबीआइ रेड के लिए पीएम मोदी व अमित शाह को जिम्‍मेदार ठहराते हुए उन्‍होंने कहा कि वे 'खटमल' व 'चिल्‍लर' को उखाड़ फेंकेंगे।

आइए नजर डालते हैं देश-दुनिया की मीडिया में छाए रहे लालू प्रसाद यादव के ऐसे ही कुछ चर्चित, चुटीले व मारक बयानों पर एक नजर-
हाल ही में आयकर विभाग की छापेमारी पर उन्‍होंने कहा था- ‘अचक डोले, कचक डोले, खैरा-पीपल कभी ना डोले।’
कुछ दिनों पहले लालू ने यह भी कहा था, ‘अंगद की तरह पैर गाड़ के खड़ा हूं। भाजपा को चैन से रहने नहीं दूंगा। मोदी सरकार की लंका को भस्म कर दूंगा। ये झांसों के राजा हैं। हमारे बाप-दादाओं को भी ये लोग गाली देते थे। समझ लो, मैं डरने वालों में से नहीं हूं।’
पीएम मोदी मोदी के बारे में उन्होंने कहा था, 'मोदी अगले कुछ दिनों में पागल हो जायेंगे। हमारे देश के प्रधानमंत्री बनने के लिए वे पागल हुए जा रहे हैं।'
आज लालू कांग्रेस के साथ हैं। लेकिन, कभी वे उसके विरोधी थे। तब कांग्रेस पर बोलते हुए कहा था, 'कांग्रेस को हटाओ। हमरा पावर दो। ...मतलब निकल गया तो पहचानते नहीं हैं और ऐसे घसक रहे हैं जैसे लालू को जानते नहीं हैं।'
हरियाणा के एक मुद्दे पर लालू ने कहा था, ‘मैंने सामंतवाद व एकाधिकार को खत्म किया। पिछड़े समाज से था तो मुझे ललूआ, ग्वाला, चोर कहा गया। पर जगन्नाथ मिश्रा को अभिजात्यों ने कभी गाली नहीं दी।’
बिहार में इन दिनों टॉपर घोटाला व परीक्षा में मनमानी की चर्चा है। एक बार जब नकल पर लालू से पूछा गया तो उन्‍होंने कहा था, 'हम तो छात्रों को पूरी किताब ही दे देते थे।’
रेल मंत्री रहते लालू का यह बयान भी चर्चा में रहा था, ‘अगर आप गाय को पूरी तरह नहीं दुहेंगे, तो वह बीमार पड़ जायेगी।’
रेलवे में बढ़ती चोरी की घटनाओं पर लालू ने कहा था, 'यह तो होते रहता है. रेल का दायित्व भगवान विश्वकर्मा पर है। मैं उनका काम संभालने के लिए विवश नहीं हूं।'
एक बार लालू ने अपने अंदाज में कहा था, ‘हम इतना काम करते हैं, अगर आराम नहीं करेंगे तो पगला जाएंगे।'
लालू ने कई बार यह भी कहा, 'जब-तक समोसे में आलू रहेगा, तब तक बिहार में लालू रहेगा।’ लालू यादव ने एक बार आलू पर बोलते हुए कहा था, 'लालू के राज में आलू कभी मंहगा हुआ? लालू के राज में आलू 2 रुपया किलो। आलू 2 रुपया किलो। आलू 2 रुपया किलो। आलू 2 रुपया किलो।'
लालू कहते रहे हैं, ‘मेरी पहचान आम लोगों के बीच दूसरों से अधिक है, क्योंकि जब मैं लोगों के बीच जाता हूं तो लोग कहते हैं ललूआ आ गया…ललूआ आ गया।’
लालू का यह बयान भी चर्चित रहा है, ‘मेरी मां ने सिखाया है कि भैंसवा को पूंछ से नहीं, बल्कि हमेशा सींग की तरफ से पकड़ो। मैंने जिंदगी में यही सबक अपनाया है।’
गौ रक्षा पर भी लालू का यह तंज कम चर्चित नहीं रहा है, ‘गौ रक्षा का ढिंढोरा पीटने वाले लोग खुद के घरों में कुत्ता पालते हैं, गाय नहीं। जानते हो न कौन हैं ई लोग।’
लालू यादव जब बिहार की सत्‍ता में थे, तब का एक बयान आज भी लोगों की जुबान पर आ जाता है। उन्‍होंने कहा था, ‘बिहार की सड़कों को हेमामालिनी के गाल की तरह चिकनी बना देंगे।' तब विरोधियों ने बिहार की सड़कों की तुलना ओम पुरी के गालों से की थी।
- बीते दिनों हेमा मालिनी पटना आईं थी तो उन्‍होंने लालू की जमकर तारीफ की थी। हेमा के फैन लालू का एक और बयान बहुत चर्चित रहा है। एक बार जब लालू से कहा गया कि हेमा मालिनी उनकी फैन हैं, तो लालू ने झट से कहा था, ‘मैं उनका एयरकंडीशनर (एसी) हूं।’

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।