धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

बुधवार, 12 जुलाई 2017

स्थापना दिवस: उपहार में मिला था भागलपुर विश्वविद्यालय

भागलपुर : आज के ही दिन 1960 में भागलपुर और रांची विश्वविद्यालय की स्थापना हुई थी। भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति जस्टिस ब्रह्मदेव प्रसाद जमुआर और ट्रेजरर मुक्तेश्वर प्रसाद बनाये गये थे। बाद में
इस विश्वविद्यालय का नाम बदल कर तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय कर दिया गया। जिसे देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने यहां के लोगों को उपहार के रूप में सौगात दी थी।
प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद के बड़े भाई महेंद्र प्रसाद की पोती शारदा की शादी भागलपुर के मुक्तेश्वर प्रसाद के पुत्र श्याम जी प्रसाद से हुई थी। मुक्तेश्वर प्रसाद के करीबी मित्र थे जस्टिस ब्रह्मदेव प्रसाद जमुआर। उन्होंने मजाक में राजेंद्र बाबू से उपहार मांग लिया था। प्रो. रमण सिन्हा के अनुसार राजेंद्र बाबू ने पूछा क्या चाहिए, इसपर जस्टिस साहब ने भागलपुर में एक विवि खोलने की मांग रख दी। इसके बाद राजेंद्र बाबू ने बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री कृष्ण सिंह से सलाह लेकर विवि खोलने की अनुमति दे दी। कुलपति बनने की जब बात हुई तो मुक्तेश्वर बाबू ने कहा कि जिसने विचार रखा है, उसे ही कुलपति बनाया जाए। जस्टिस जमुआर ने उनकी बात को मानते हुए शर्त रखी कि मुक्तेश्वर बाबू साथ सहयोग करेंगे तभी कुलपति का पद स्वीकार करेंगे। दोस्ती के नाते मुक्तेश्वर बाबू ने स्वीकृति दे दी और 12 जुलाई 1960 को भागलपुर विवि की स्थापना हुई। इसके बाद जस्टिस ब्रह्मदेव प्रसाद जमुआर भागलपुर विवि के प्रथम कुलपति बने। मुक्तेश्वर बाबू को ट्रेजरर बनाया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।