धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

रविवार, 6 अगस्त 2017

रक्षाबंधन कल, 3 घंटे 21 मिनट है शुभ मुहूर्त

नव-बिहार समाचार। इस साल रक्षा बंधन सावन पूर्णिमा 7 अगस्त सोमवार को है। रक्षा बंधन पर चन्द्रग्रहण का संयोग भी बन रहा है। ऐसा संयोग 12 वर्षों के बाद मिला है। काफी शुभफलदायक माना जा रहा है। दिन में 10.31 से लेकर 1.52 बजे तक रक्षा सूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त है। बहनें अपने भाई की कलाई में रक्षासूत्र बांधकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना करेंगी। ज्योतिष के जानकार पं. श्रीशिव शंकर ठाकुर बताते हैं कि इस बार सावन पूर्णिमा को राहु काल प्रात: 7.30 बजे से 9 बजे तक है। भद्रा की समाप्ति प्रात: 10.30 तक है। रात 10.52 बजे से चन्द्रग्रहण लग रहा है। चूकि ग्रहण लगने के 9 घटे पहले से सूतक (छूत) लग जाता है। इसलिए दिन में 10.31 से 1.52 तक रक्षा सूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त है।

अनिष्ट निवारण है रक्षाबंधन :- पं. श्रीशिवशंकर ठाकुर बताते हैं कि रक्षाबंधन की परंपरा प्राचीनकाल से चली आ है। धार्मिक और पौराणिक मतानुसार रक्षा बंधन श्रावण शुल्क पक्ष पूर्णिमा को मनाया जाता है। रक्षा बंधन एक सुरक्षा कवच है। अनिष्ट निवारण सूत्र है। रक्षा यानी सुरक्षा और बंधन का अर्थ बांधना है। प्राचीनकाल में अपने हितैषीजनों को रक्षा सूत्र बांधकर सदा आपदा व संकटों से बचने के उद्देश्य से ऋषि-महर्षि, पुरोहित व ब्राह्मण अपने यजमान के दाहिने हाथ की कलाई में अभिमंत्रित सूत्र बांधकर रक्षा और विजयी की कामना करते थे।

राखी दुकानों पर बहनों की दिखी भीड़:- रक्षाबंधन को लेकर शनिवार को बाजार में चहल-पहल काफी दिखी। चौक-चौराहों पर रंग-बिरंगी राखियों की दुकानों पर महिलाएं व युवतियों की भीड़ जुटी थी। मिठाई दुकानों पर भी ग्राहकों की कतार दिखीं। वैसे, आधुनिकता का असर राखियों पर भी साफ दिख रहा है। अब फोम से बनी राखियां बहुत कम ही नजर आती हैं। चमकीले स्टोन की बनी राखियों की डिमांड सबसे ज्यादा है। बाजार में बच्चों को लुभाने के लिए कार्टून वाली राखियां भी लायी गयी हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।