धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

बुधवार, 3 मई 2017

कई पदाधिकारी की वीआईपी लाइट उतरी, कई की नहीं

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क, भागलपुर/ सुपौल: देश भर में एक मई से लाल बत्ती और नीली बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगाने के पीछे मोदी सरकार का मकसद वीआईपी कल्चर पर लगाम कसना था. लेकिन पदाधिकारी हैं कि अपने इस ठाठ को छोड़ने तैयार ही नहीं हैं.

लाल बत्ती और नीली बत्ती पर रोक सोमवार एक मई से पूरी तरह लागू हो गई है. फिर भी कई पदाधिकारियों का वीआईपी सिम्बल नीली बत्ती के प्रति मोह अभी तक जा नहीं रहा है. इसी कड़ी में मंगलवार 2 मई को जब मिडिया का दल तहकीकात करने सुपौल जिला समाहरणालय पहुंचा तो जिला पदाधिकारी की गाड़ी से नीली बत्ती हटी हुई थी. उप विकास आयुक्त की गाड़ी से भी नीली बत्ती हटी हुई थी. वहीं अपर समाहर्ता महोदय की गाड़ी में नीली बत्ती लगी हुई थी.

इधर भागलपुर जिले के नवगछिया अनुमंडल में भी अनुमंडल पदाधिकारी की गाड़ी से नीली बत्ती उतरी हुई दिखी. जबकि उसी गाडी के बगल में खड़ी एक पदाधिकारी की गाड़ी में नीली बत्ती लगी नजर आ रही थी. जिसके ड्राइवर ने कहा कि कोई लिखित आदेश नहीं मिला है, आदेश मिलते ही हटा लिया जायेगा।

 


बिहार में भी लग गई है लाल-नीली बत्ती पर रोक

सूबे बिहार की सड़कों से लाल और नीली बत्ती लगे वाहनों की आखिरकार विदाई हो गई। राज्य सरकार ने मंगलवार को वीआईपी बत्तियों पर रोक लगा दी। केन्द्र के निर्देश पर राज्य परिवहन आयुक्त ने इस संबंध में आदेश जारी किया। हालांकि एंबुलेंस और इमरजेंसी ड्यूटी में लगी गाड़ियों पर नीली बत्ती लगाने की अनुमति होगी। एंबुलेंस पर बैगनी शीशा लगे ब्लिंकर लगाया जा सकेगा, जबकि आपात ड्यूटी और आपदा प्रबंधन ड्यूटी में लगाए गए वाहनों पर नीली बत्ती लगाई जा सकेगी। वीआईपी कल्चर को समाप्त करने के लिए केन्द्र सरकार ने 19 अप्रैल को लाल और नीली बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। हवाई अड्‌डा और बंदरगाह के परिसर के अंदर चलने वाली गाड़ियों पर टॉप लाइट लगाने की इजाजत दी गई है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।