ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** आपके लगातार सहयोग से पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 9 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। ताजा समाचार *** नवगछिया- गोसाईंगांव के पास नदी में डूबने से एक की मौत, लाश नहीं हुई बरामद, सिंघिया मकंदपुर निवासी अरुण साह का पुत्र राहुल कुमार के नाम की है चर्चा *** ***

रविवार, 26 मार्च 2017

खास खबर: पटना के आकाश ने सिंगापुर में छुआ 'आकाश'

पटना: राजधानी पटना के इंदिरा नगर के रहने वाले आकाश राज ने इंटरनेशनल ट्रॉपिकल आर्किटेक्चर डिजाइन कम्पटीशन में स्पेशल मेंशन अवार्ड जीतने का गौरव हासिल किया है. आकाश द्वारा बनाए डिजाइन द पेनोरोमिक हैबिटेट (विहंगम निवास स्थान ) को यह अवार्ड मिला है. आकाश ने  प्रतियोगिता में 15 देशों के 131 प्रतिभागियों को पीछे छोड़ यह अवार्ड जीतकर सचमुच अपने नाम को चरितार्थ करते हुए आकाश को छू लिया.

  सिंगापुर में संपन्न  यह प्रतियोगिता हायर एजुकेशन इंस्टिट्यूट में पढ़ रहे स्टूडेंट्स के लिए आयोजित की जाती है. आकाश फ़िलहाल एनआईटी तिरुचिरापल्ली (तमिलनाडु) में  आर्किटेक्चर कि पढ़ाई कर रहे है. डिजाइन की इंट्री ऑनलाइन कि गयी थी. रिजल्ट भी ऑनलाइन ही घोषित किया गया. आकाश ने अपनी क्लासमेट जेसुल सेलिन के साथ मिलकर यह डिजाइन तैयार किया था.

300 लोगों के रहने के लिए बनाए गए इस बिल्डिंग का यह डिजाइन काफी आकर्षक है. डिजाइन सेलेक्ट होने के बाद आकाश एंड टीम को सिंगापुर बुलाता गया. सिंगापुर के होम अफेयर्स एंड नेशनल डेवलपमेंट मिनिस्टर डेसमांड ली ने उन्हें अवार्ड प्रदान किया. ली ने बताया कि अभी जो बड़ी-बड़ी बिल्डिंग बनाई जा रही है, उसके निर्माण में फ्यूचर का ख्याल नही रखा जा रहा है. हमारा कॉन्सेप्ट था कि  बिल्डिंग  इस तरह से बनायी जाए कि सभी रूम में हवा, पानी, रोशनी एक समान रूप से पहुंचे. साथ ही उसमें बागवानी भी की जा सके. इसके अलावा ग्लोबल वार्मिंग का खतरा भी कम हो. जिससे हमें ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से निबटने में मदद मिल सके.

 आकाश बहुत ही साधारण  परिवार से आते है. उनके पिता अमरनाथ राज एक पहले एक प्राइवेट जॉब करते थे. फिलहाल वे पतंजलि प्रोडक्ट की एक छोटी सी दुकान म्यूजियम के सामने चला रहे हैं. उन्होंने लाइव सिटी से बात करते हुए  बताया  कि आकाश ने बचपन की पढाई आदर्श विकास मंदिर से की है. वह बचपन से ही इंजीनियर बनना चाहता था. 2012 में इंटर  करने के बाद बीटेक करने के लिए  एनआईटी तिरुचिरापल्ली, (तमिलनाडु) चला गया. उनकी एक बेटी चार्टर्ड एकाउंटेसी (CA) की फाइनल इयर में हैं. दूसरी बेटी भी मेडिकल क्वालीफाई कर चुकी थी परंतु संभवतः सीट कम रहने के कारण काउंसिलिंग के लिए नहीं बुलाया गया.

 आकाश की सिक्षा जुलाई में पूरी हो जाएगी. लेकिन अभी से ही उसे जापान वगैरह कई देशों तथा बेंगलुरू से अपने यहां काम करने के लिए बुलावा आ चुका है. लेकिन आकाश की इच्छा विदेश न जाकर अपने राज्य व देश की सेवा करने की है.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।