धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

बुधवार, 22 मार्च 2017

...तो मेल-एक्सप्रेस के किराए पर कर सकेंगे राजधानी-शताब्दी-दुरंतो में सफर


नई दिल्ली: यदि आपने मेल या एक्सप्रेस ट्रेन का टिकट बुक किया है और आपका नाम वेटिंग लिस्ट में रह जाता है तो आपको एक अप्रैल से राजधानी या शताब्दी ट्रेनों में सफर करने का मौका मिल सकता है, बशर्ते कि आपने टिकट बुक कराते समय विकल्प चुना हो. दरअसल, रेलवे एक अप्रैल से एक नई योजना शुरू कर रहा है. इसके तहत प्रतीक्षा सूची वाले यात्रियों को अगली वैकल्पिक ट्रेन में कंफर्म सीट मिल सकती है. इस योजना के मुताबिक यात्रियों से कोई अतिरिक्त पैसा नहीं लिया जाएगा, ना ही किराए में अंतर के लिए कोई रिफंड (रकम वापसी) दिया जाएगा. विकल्प नाम की इस योजना के तहत सभी मुख्य मार्गों पर राजधानी, शताब्दी, दुरंतो या सुविधा जैसी अन्य विशेष सेवा वाली ट्रेनों में खाली रह चुकी सीटों को भरा जाएगा.

गौरतलब है रेलवे को विभिन्न कारणों से टिकटों को रद्द किए जाने के चलते यात्रियों को साल में करीब 7,500 करोड़ रूपया वापस (रिफंड) करना पड़ता है. रेलवे के एक अधिकारी ने इस योजना को यात्री हितैषी बताते हुए कहा, हमारा लक्ष्य दोहरा उद्देश्य प्राप्त करना है. 

गौरतलब है कि रेलवे ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत विकल्प टिकट योजना अभी दिल्ली-हावड़ा, दिल्ली-चेन्नई, दिल्ली-मुम्बई और दिल्ली-सिकंदराबाद के बीच चलने वाली सभी ट्रेनों के साथ-साथ देशभर में तकरीबन 150 ट्रेनों में ये सुविधा उपलब्ध है. पायलेट प्रोजेक्ट में काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है. इस वजह से रेल मंत्रालय ने अब इसे देश भर की सभी ट्रेनों में लागू करने का फैसला किया है. इससे जहां एक तरफ ट्रेन में अब वेटिंग टिकट के साथ सफर करने की परेशानी खत्म हो रही है तो वहीं दूसरी तरफ रेलवे को अच्छी कमाई होगी. फ्लैक्सी फेयर की वजह से शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में कई रूटों पर 80 फीसदी सीटें खाली रह जाती हैं. विकल्प टिकट सिस्टम लागू होने के बाद से इन सभी ट्रेनों की सीटों को विकल्प के तौर पर भरा जा सकता है. 

हर 2 घंटे में मिलेगा ताजा खाना
वहीं खानपान को लेकर शिकायतों से जूझ रही रेलवे ने हर दो घंटों के बाद बेस किचेन में तैयार किया गया ताजा खाना यात्रियों को परोसने की योजना बनाई है. हर दिन करीब 11 लाख यात्रियों को भोजन मुहैया कराने वाली रेलवे ने हाल ही में लागू नई खानपान नीति के तहत खाना पकाने और वितरण की व्यवस्था अलग कर दी है. खानपान को लेकर यहां एक राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, हमने अपने यात्रियों को अच्छी गुणवत्ता का खाना देने का निर्णय लिया है और इसके लिए हमने अनेक स्थानों पर रसोई घर बनाने का निर्णय लिया है ताकि यात्रा के हर दो घंटे पर ताजा खाना वहां से लिया जा सके.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।