नवगछिया के बिहपुर में शुरू हुआ मांगन शाह का मेला

दाता के दर पर मांगी गयी मुराद होती है पूरी 
हिंदू-मुसलमान समेत सभी करते हैं चादरपोशी
नवगछिया अनुमंडल अंतर्गत बिहपुर प्रखंड के मिल्की गांव में बुधवार से दाता मांगन शाह का सालाना उर्स-ए-पाक शुरू हो गया. जिसे लोग मांगन शाह का मेला या मुरगिया मेला के नाम से भी जानते हैं. जहां देर
रात 12:06 बजे बिहपुर निवासी स्वर्गीय लाल बिहारी मजूमदार के वशंज अरविंद दास ने सपरिवार मजार पर आ कर पहली चादरपोशी की.
इस मौके पर उर्स इंतेजामिया कमेटी के पदाधिकारी, सदस्य, सरकारी व प्रशासनिक अधिकारी, पंचायत प्रप्रतिनिधि, दोनों संप्रदाय के गणमान्य लोग व बड.ी संख्या में दूसरे प्रदेशों से आये र्शद्धालुओं की मौजूदगी थी. मेले में सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था की गयी थी. इंस्पेक्टर दिनेश सिंह व थानाध्यक्ष सतीश प्रसाद सिंह व्यवस्था संभालने में तैनात थे.
मजार परिसर में लगा मेला बुधवार को शाम ढलते ही पूरे शबाब पर पहुंच गया. उर्स में दाता की जियारत व चादरपोशी करने कई दूसरे राज्यों से जायरीन बड.ी संख्या में यहां पहुंचे हैं. यूपी के फैजाबाद से पहुंचे सिकंदर आलम ने बताया कि वह दाता के चौखट पर पिछले नौ साल से पूरे परिवार के साथ आ रहे हैं.
झारखंड के मोहनपुर से पहुंची इशरत बानो ने कहा कि दाता के रहम-ओ-करम से बरसों से मेरी सुनी गोद आबाद हो गयी. सुपौल के छातापुर से पहुंचे रामप्रकाश मंडल ने कहा कि दाता के दर पर मांगी गयी मुराद दाता जरूर पूरी करते हैं. वे दाता के उर्स में हर साल पूरे परिवार के साथ पहुंचते हैं. मालूम हो कि दाता के दर पर हिंदू-मुसलमान समेत सभी धर्मों को मानने वाले लोग एक साथ पूजा-अर्चना व नियाज फातिहा कर चादरपोशी करते हैं. उर्स का संचालन भी दोनों संप्रदाय के लोग मिल कर करते हैं.