धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शुक्रवार, 23 जून 2017

वृद्धों को वृद्धाश्रम खाली करने की मिल रही है धमकी

भागलपुर : डिप्टी मेयर व नगर निगम प्रशासन के बीच चल रही राजनीति में चंपानगर के मसकन बरारी स्थित वृद्धाश्रम में रह रहे बुजुर्ग पिस रहे हैं। उनके समक्ष खाने-पीने से लेकर तमाम तरह का संकट गहरा गया है। स्थिति यह कि पेट भरने के लिए उन्हें मोहल्ले के लोगों के समक्ष हाथ फैलाना पड़ रहा है। ऐसे में अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं कि अपने बच्चों से आहत हो जिन बागवान ने वृद्धाश्रम को शरणस्थली बनाई अब वे वहां भी दुखी हैं। व्यवस्था से आहत हो 10 में से चार बुजुर्ग वृद्धाश्रम छोड़कर कहीं और चले गए। जो बचे हैं उन्हें संस्था वाले फोन कर वृद्धाश्रम खाली करने की धमकी दे रहे हैं।

दरअसल, वृद्धाश्रम की व्यवस्था को लेकर डिप्टी मेयर व नगर निगम प्रशासन के बीच रार चल रही है। डिप्टी मेयर राजेश वर्मा ने वृद्धाश्रम के खर्च का ब्योरा नगर निगम से मांगा था। निगम ने जानकारी देने से मना किया तो उन्होंने आरटीआइ डाल वृद्धाश्रम का संचालन व राशि खर्च करने की जानकारी मांगी। इस खींचतान के कारण 19 जून को बुजुर्गो की सेवा कर रही संस्था के कर्मचारी वहां भाग खड़े हुए। लिहाजा लाचार बुजुर्ग श्याम चरण सिन्हा, नरसिंह साह, अशोक दास, अनूप दास, बाल्मिकी दास व देवेंद्र शर्मा के समक्ष भोजन-पानी का संकट खड़ा हो गया है।

जहां डिप्टी मेयर राजेश वर्मा का कहना है कि जब वृद्धाश्रम नगर निगम का है तो बिना अनुमति के वहां कोई संस्था कैसे काम कर सकती है। वृद्धों के रख-रखाव, भोजन, एनजीओ कर्मचारियों के वेतन पर कौन और क्यों तथा कहाँ से खर्च कर रहा है?

वहीँ निगम प्रशासन के अनुसार वृद्धाश्रम चलाने की जिम्मेदारी किसी एजेंसी को नहीं दी गई है। एक माह के अंदर एनजीओ बहाल कर वृद्धाश्रम को सुचारू रूप से संचालित किया जाएगा।

नगर आयुक्त अवनीश कुमार सिंह के अनुसार बुजुर्गो के भोजन की वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी। रैन बसेरा से एक कर्मी को देखरेख के लिए वहां भेजा जाएगा। एक माह में एनजीओ को बहाल कर लिया जाएगा। तब तक कैनरा बैंक के सहयोग से भोजन कराया जाएगा।

इससे अलग महापौर सीमा साहा का कहना है कि वृद्धाश्रम में कोई परेशानी नहीं होगी। जल्द ही इसकी निविदा होगी और समुचित व्यवस्था कराई जाएगी। वृद्धाश्रम में रहने वाले बुजुर्ग माता-पिता के तुल्य हैं। वे यहां जब तक हैं तब तक भोजन मैं खुद कराऊंगी। (साभार-दैनिक जागरण)

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।