ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** ध्यान दें-- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप में प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. ***

मंगलवार, 22 नवंबर 2016

नोटबंदी से रबी फसल की बुआई पर पड़ रहा प्रतिकूल असर

नवगछिया, (एन एन एन) : केंद्र सरकार द्वारा 8 नवंबर की मध्य रात्रि से बड़े नोट बंद करने के बाद 9 नवंबर से किसान खेती करने के बजाए
बैंक के चक्कर लगाने में व्यस्त हो गए है। जिससे अभी तक रबी की बुआई नहीं हो पा रही है। किसानों का कहना है कि यह समय रबी की बुआई के लिए सबसे उचित होता है। लेकिन सरकार द्वारा बड़े नोट बंदकर देने से खेती का काम पूरी तरह से चौपट हो गया है।
नवगछिया अनुमंडल के किसान बताते हैं कि हमारे पास पुराने पांच सौ व एक हजार रुपये के नोट हैं। लेकिन खाद-बीज विक्रेता पुराने नोट नहीं ले रहे हैं। जिसे बदलवाने के लिए हम दिनभर बैंक की चक्कर काट रहे हैं। जिससे खेती का उपयुक्त समय निकलता जा रहा है। मक्का की बुआई का समय 15 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होता है। लेकिन अभी तक खेतों में बुआई नहीं हो पाई है। उधर किसानों ने बताया कि प्रधानमंत्री के घोषणा के बाद भी खाद-बीज विक्रेता पांच सौ व हजार के पुराने नोट नहीं ले रहे हैं। जिससे समस्याएं बढ़ती जा रही है। यहीं वजह है कि अभी तक रबी की बुआई नहीं हो पाई है।
दूसरी ओर सोमवार को तड़के सुबह ही नवगछिया अनुमंडल के बैंकों में ग्राहकों की भीड़ जमा हो गई। जबकि पोस्ट ऑफिस में ग्राहकों की भीड़ कम रही। बैंकों में ग्राहकों की लंबी कतार से रोड जाम हो गया। जिससे लोगों को आने जाने में काफी परेशानी हुई। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी। उधर ग्राहकों का कहना है कि दिन भर लाइन में लगने के बाद भी काम नहीं हो पाया। चार बजते ही बैंक बंद हो गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।