ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** ध्यान दें-- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप में प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. ***

सोमवार, 20 मार्च 2017

गंगा यमुना को दिया गया ‘मानव’ का दर्जा , मिलेंगे सभी संवैधानिक अधिकार

पटना : सिर्फ शास्त्रों और पुराणों में ही अब तक गंगा को देवी यानी ‘मानव’ का दर्जा दिया गया था. लेकिन ऐसा अब सच में हो गया है. उत्तर भारत की जीवनदायिनी नदी मानी जाने वाली गंगा को उत्‍तराखंड की नैनीताल हाईकोर्ट ने ‘जीवित इकाई’ माना है. इस फैसले के बाद से अब गंगा नदी को भी संविधान की ओर से मुहैया कराए गए सभी अधिकार मिल सकेंगे. कोर्ट ने यह फैसला गंगा के साथ ही यमुना नदी के लिए भी दिया है.

मामले में सुनवाई करते हुए वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति आलोक सिंह की खंडपीठ ने केंद्र से जल्द गंगा प्रबंधन बोर्ड बनाने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने यह आदेश हरिद्वार निवासी मो. सलीम की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है. कोर्ट ने DM देहरादून को 72 घंटे के भीतर शक्ति नहर ढकरानी को अतिक्रमण मुक्त करने के सख्त निर्देश दिए हैं.

गंगा भारत की सबसे महत्‍वपूर्ण और पौराणिक दृष्टि से पूज्‍यनीय नदी है. उत्‍तराखंड में हिमालय पर्वत श्रृंखला के गंगोत्री ग्‍लेशियर से निकलने वाली गंगा भारत के मैदानी इलाकों को सींचते हुए सीधे बंगाल की खाड़ी में गिरती है. गंगा को स्वच्छ रखने के लिए कुछ समय पूर्व इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकार को गंगा में पर्याप्त पानी छोड़ने और गंगा के आसपास पॉलीथीन को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया था, लेकिन अब भी इन क्षेत्रों में पालीथीन पूरी तरह से प्रतिबंधित नहीं किया जा सका है.

गंगा का उद्गम स्थल भी प्रदूषण की चपेट में है. केंद्र सरकार ने गंगा की सफाई के लिए ‘नमामि गंगे’ परियोजना भी शुरू की है.

इससे पहले हाल ही में खबर आई थी कि न्यूजीलैंड ने उत्तरी द्वीप में बहने वाली ‘वांगानुई’ नदी को एक जीवित संस्था के रूप में मान्यता देने वाला बिल पारित किया है. इसके बाद इस नदी को जीवित इकाई के रूप में मान्यता प्राप्त हो गई है और उसे इंसानों के समान अधिकार मिल गए हैं. ऐसा शायद दुनिया में पहली बार हुआ था.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।