ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** ध्यान दें-- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप में प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. ***

शुक्रवार, 7 अप्रैल 2017

200 के नोट एटीएम की बजाय बैंक के माध्यम से प्रचलन में लाने की तैयारी


नव-बिहार न्यूज नेटवर्क, नईदिल्ली। नोटबंदी के बाद बैंकों और एटीएम के बाहर महीनों लंबी-लंबी लाइनें लगी रही थीं। धीरे-धीरे लाइनें खत्म हो गईं। लोगों के पास पर्याप्त कैश भी आ गया। रिजर्व बैंक ने 1000 रुपये का नोट बंद करके 2000 रुपये का नोट निकाला था। इस नोट के खुले भी आसानी से नहीं मिलते। अब भारतीय रिजर्व बैंक लोगों की इसी परेशानी को देखते हुए लोगों को राहत देना चाहता है। आरबीआई 200 रुपये का नोट चलन में लाने की तैयारी कर रहा है। रिजर्व बैंक चाहता है कि 200 रुपये के नोटों को एटीएम के माध्यम से लोगों तक न पहुंचाया जाए। इस नोट को सीधे बैंक से ही लोगों को दिया जाए। ठीक वैसे ही जैसे 50 रुपये और 10 रुपये के नोटों को दिया जाता है। रिजर्व बैंक की तरफ से मार्च में ही इसकी इजाजत मिल चुकी है।

बैंक के एक अधिकारी ने बताया है कि 200 रुपये के नोट को एटीएम से देने का मतलब है कि देश के 220,000 एटीएम में सुधार करना। देश के सभी एटीएम को तकनीकी सुधार करके 200 रुपये का नोट बांटने लायक बनाने में एक महीने से ज्यादा का समय लग जाएगा। 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद एटीएम लगभग 10 दिन में काम करने लगे थे। इसके बावजूद बैंकों और एटीएम के बाहर इतनी लंबी लाइनें लग गई थीं। लोगों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। इसलिए सिस्टम में बिना डिस्टर्ब किए 200 रुपये के नोटों को सीधे बैंक से ही बांटने की प्लानिंग की जा रही है। बैंक अधिकारी ने यह भी कहा कि अभी यह केवल एक प्रस्ताव है। 2000 रुपये का नोट आने के बाद से छोटे नोटों की दिक्कत हो रही है इसीलिए आरबीआई चाहता है कि और छोटे नोट भी चलन में लाए जाएं।

8 आठ नवंबर 2016 की रात को प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य घोषित कर दिया था। देश में चल रही करंसी में इनकी 86 फीसदी हिस्सेदारी थी। इसके बाद इन नोटों को केवल अपने खाते में जमा किया जा सकता था या फिर बैंक से बदला जा सकता था। नोटबंदी के बाद 15.44 लाख करोड़ रुपये चलन से बाहर हो गए। इसमें 8.58 लाख करोड़ रुपये 500 रुपये के नोट थे और 6.86 लाख करोड़ रुपये के 1000 रुपये के नोट थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।