ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** आपके लगातार सहयोग से पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 9 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। ताजा समाचार *** नवगछिया- गोसाईंगांव के पास नदी में डूबने से एक की मौत, लाश नहीं हुई बरामद, सिंघिया मकंदपुर निवासी अरुण साह का पुत्र राहुल कुमार के नाम की है चर्चा *** ***

गुरुवार, 6 अप्रैल 2017

संतों का जन्म नहीं, अवतरण होता है: स्वामी आगमानंद

नव-बिहार समाचार, नवगछिया  : भागलपुर जिले के नवगछिया अनुमंडल अंतर्गत रंगरा गाँव के भगवती मैदान प्रांगण में आयोजित तीन दिवसीय नवचंडी महायज्ञ के अंतिम दिन बुधवार को स्वामी आगमानंद जी महाराज ने कहा कि संतों का जन्म नहीं होता, बल्कि लोक कल्याण के लिए संतों का अवतरण होता है. उन्होंने कहा वैदिक पद्धति में भक्ति मार्ग सबसे श्रेष्ठ है. जब मनुष्य के अंदर में शक्ति का अभिमान होता है, तो व्यक्ति के अंदर रावण का अवतरण हो जाता है. व्यक्ति के अंदर का रावण मनुष्य को नाश की ओर लेकर जाता है. इसलिए मनुष्य को अभिमान नहीं रखना चाहिए.

उन्होंने दुर्गा चरित्र कथा के दौरान कहा कि मातृत्व की महत्ता शास्त्रों में भी वर्णित है. संसार में मातृभक्ति  सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है, इसलिए शास्त्रों में माता सीता एवं मां दुर्गा को शक्ति रूप की संज्ञा दी गयी है.  माता दुर्गा की आराधना मात्र से मनुष्य के जीवन का कल्याण हो जाता है. आगमानंद जी ने साधना के बारे में बताते हुए कहा आत्मा से परमात्मा के मिलन के लिए सच्ची साधना और निस्वार्थ भक्ति जरूरी है. उदाहरण स्वरूप राजघराने की मीरा जब भगवान श्रीकृष्ण की साधना में लीन हुई, तो उन्हें लोगों ने काफी प्रताड़ित किया. उनकी सच्ची साधना की वजह से आत्मा से परमात्मा का मिलन हो गया.  

इस अवसर पर तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलपति नलिनीकांत झा, हिंदी विभाग के पूर्व विभाग अध्यक्ष नृपेंद्र वर्मा, भौतिकी विभाग के विभागाध्यक्ष जितेंद्र चौधरी, कला केंद्र के पंडित शंकर मिश्र नाहर, पूर्व डीएसपी अरविंद कुमार मिश्रा, मानस कोकिला कृष्णा मिश्रा, भजन गायक आचार्य शंभु नाथ वैदिक, पंडित शिवशंकर ठाकुर, मानवानंद जी, पंडित कौशलेंद्र झा आदि मौजूद थे. आयोजन को सफल बनाने में बंटी झा, रोशन सिंह, धर्मेश, दिवाकर ठाकुर, वरुण ठाकुर, कुंदन सिंह, शिव शक्ति योग पीठ के अध्यक्ष अनिमेष सिंह, कुमार साहब आदि के अलावा दीपक यादुका, भोला शर्मा, पंकज भारती, राकेश झा, बलवीर सिंह बग्गा, माधवानंद झा, सुभम कुमार इत्यादि दर्जनों ग्रामीण और स्थानीय युवकों का योगदान रहा. 

स्वामी आगमानंद जी महाराज का 48वां अवतरण दिवस बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, रांची समेत कई अन्य शहरों में भी काफी श्रद्धापूर्वक मनाया गया. बेंगुलुरु से स्वामी जी के शिष्य बम बम मिश्रा ने फोन पर बताया कि इस बार गुरु जी के जन्मोत्सव पर लोगों की भारी भीड़ जमा हुई. वहीं, दिल्ली में डी एन ठाकुर एवं अजित सिंह के नेतृत्व में धूमधाम से जन्मोत्सव पर मिठाई बांटी गयी. 

 गुरु भाई एवं बहनों ने स्वामी जी के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित किया. गुरु वंदना के साथ हवन भी की गयी. भजन कीर्तन के बाद महाप्रसाद का वितरण भी किया गया. स्वामी जी के शिष्य बड़ी संख्या में बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, विजयवाड़ा, कोलकाता, हैदराबाद, मुंबई, इंदौर में निवास करते हैं. यही शिष्य स्वामी जी हर वर्ष जन्मदिन मनाते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।