ब्रेकिंग न्यूज

*** ध्यान दें- नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, जिसमें आपका पूर्ण सहयोग अपेक्षित है. *** आपके लगातार सहयोग से पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 9 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। ताजा समाचार *** नवगछिया- गोसाईंगांव के पास नदी में डूबने से एक की मौत, लाश नहीं हुई बरामद, सिंघिया मकंदपुर निवासी अरुण साह का पुत्र राहुल कुमार के नाम की है चर्चा *** ***

रविवार, 23 अक्तूबर 2016

खुशखबरी : इंटर की पढाई में मनचाहा विषय चुनने का मिलेगा विकल्प

पटना (नवबिहार न्यूज नेटवर्क) : बिहार बोर्ड के इंटर के छात्रों के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने बहुत बड़ी खुशख़बरी दी है. बिहार बोर्ड ने इंटर के छात्रों को विषय की बाध्यता से मुक्त कर दिया है. और मनचाहा विषय चुनने का बेहतरीन विकल्प तैयार कर दिया है.

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने इंटरमीडिएट की परीक्षा और पढाई  में बड़ा बदलाव किया है. शनिवार को हुई बिहार बोर्ड के गवर्निंग बॉडी की बैठक में कई नये प्रस्तावों को मंजूरी प्रदान की गयी. बोर्ड द्वारा लिए गए नए निर्णय के अनुसार अब इंटर में स्ट्रीम वाइज पढ़ाई नहीं होगी. यानी साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स स्ट्रीम को खत्म कर दिया गया है. छात्र मनचाहा विषय लेकर इंटर कर सकेंगे. बिहार बोर्ड के गवर्निंग बॉडी से पास हुए इस प्रस्ताव को अब बोर्ड सरकार के पास भेजेगा. उसके बाद सरकारी की ओर से हरी झंडी मिलते ही इसे वर्ष 2018 से लागू कर दिया जायेगा.
बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि इंटर का नया सिलेबस 2007-09 में ही तैयार किया गया था. इस सिलेबस को पूर्व से ही अनुमति प्राप्त है पर इसे लागू नहीं किया जा सका था. शिक्षा विभाग के पूर्व प्रधान सचिव मदन मोहन झा ने इस प्रस्ताव को तैयार किया था.
इस सिलेबस के अनुसार छात्र दो भाषा और तीन वैकल्पिक और एक एच्छिक विषय का चुनाव कर सकेंगे. इस सिलेबस के लागू हो जाने से छात्रों को काफी आसानी होगी और स्ट्रीम के झमेले से बच जायेंगे.
बिहार बोर्ड के नए सिलेबस के अनुसार, छात्र कोई भी विषय लेकर इंटर कर सकेंगे। इसमें विषयों के चयन में कोई बाध्यता नहीं रहेगी। छात्र मनचाहा विषय लेकर पढ़ाई कर सकेंगे। 11वीं और 12 वीं कक्षा में छात्रों को अनिवार्य रूप से दो भाषाएं लेनी होंगी। उन्हें 12 भाषा समूहों में से इसका चयन करना होगा.
वहीं 19 वैकल्पिक विषयों में से तीन विषयों को अनिवार्य रूप से लेना होगा। इसमें भी विषयों के चयन की कोई बाध्यता नहीं है. हालांकि छात्र भाषा समूह या वैकल्पिक विषय में से किसी एक विषय को रख सकता है जिसे एच्छिक माना जाएगा.
ये हैं वैकल्पिक विषय
गणित, जीव विज्ञान, भौतिक विज्ञान, रसायनशास्त्र, कंप्यूटर साइंस, इतिहास, राजनीतिशास्त्र, भूगोल, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र, गृह विज्ञान, संगीत, बिजनेस स्टडीज, एकाउंटेंसी, इंटरप्रेन्योरशिप, मल्टी मीडिया एंड वेब टेक्नोलॉजी, योग और शारीरिक शिक्षा
ये हैं भाषा समूह
हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, संस्कृत, बांग्ला, मैथिली, मगही, अरबी, फारसी, भोजपुरी, पाली, प्राकृत
बिहार बोर्ड में पूर्व से ही यह प्रस्ताव तैयार था। इसे लागू करने के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएगा। बिहार के शैक्षणिक बदलाव के लिए यह कदम उठाया गया है.

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।